भारत में फिर मंडरा रहा कोविड संकट

Republic Samachar- Samarth Singh II भारत में लगातार दूसरे दिन कोविड-19 के 6,000 से अधिक नए मामले सामने आए।केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार, शुक्रवार को भारत में कोविड-19 के 6,155 नए मामले सामने आए, इसी के साथ देश में मरीजों की संख्या बढ़कर 31,194 हो गई।

भारत में कोविड-19 मामलों की संख्या अब 4.47 करोड़ (4,47,51,259) हो गई है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से सुबह आठ बजे जारी किए गए आंकड़ों के अनुसार कल 11 लोगों की मौत के बाद मृतकों की संख्या बढ़कर 5,30,954 हो गई।

क्यों बढ़ रहे हैं कोविड-19 के मामले?

विशेषज्ञों के अनुसार, भारत में कोविड मामलों के अचानक बढ़ने के पीछे तीन प्रमुख कारण हो सकते हैं। पहला कारण यह है कि ज्यादातर लोगों ने कोविड मानदंडों की अनदेखी करना शुरू कर दिया। उन्होंने मास्क पहनना बंद कर दिया, सैनिटाइज़र का उपयोग समाप्त कर दिया और बड़ी सार्वजनिक सभाओं में भी शामिल होना शुरू कर दिया।

दूसरा कारण नए कोविड वेरिएंट का उभरना है, प्रमुख महामारी विज्ञानियों और वायरोलॉजिस्ट के अनुसार, नया कोविड वेरिएंट XBB.1.16 इन मामलों में वृद्धि के पीछे का कारण हो सकता है। SARS-CoV-2 वायरस जो कोविड का कारण बना, समय के साथ विकसित होता रहा और XBB.1.16 जैसे नए उपभेदों के जन्म का कारण बना। इस नए वेरिएंट को पिछले वेरिएंट की तुलना में अधिक शक्तिशाली माना जा रहा है।

तीसरा कारण कोविड – 19 की कम परीक्षण दर हो सकती है। पिछले कुछ महीनों में कई लोगों ने कोरोनावायरस के खिलाफ अपना बचाव कम कर दिया था, इसलिए उन्होंने उन लक्षणों के लिए परीक्षण करवाने से इनकार कर दिया, जो कोविड के हो सकते थे। राज्यों में कम परीक्षण के कारण मामलों की कम रिपोर्टिंग हुई और प्रकोपों का पता लगाने में देरी हुई। इससे वायरस को अज्ञात रूप से फैलने और अधिक लोगों को संक्रमित करने में सफल हुआ।

वैक्सीनों की आई कमी

भारत को कोविशील्ड और कोवैक्सीन की कमी का सामना करना पड़ रहा है क्योंकि देश के अधिकांश टीकाकरण केंद्रों ने दावा किया है कि उनके पास अपना स्टॉक खत्म हो गया है।

कोविन पोर्टल ने शनिवार को दिखाया कि भारत में सिर्फ 182 निजी और सरकारी सेंटर्स कोविड – 19 टीकाकरण अभियान का संचालन कर रही हैं। जिसमें दिल्ली में केवल आठ और महाराष्ट्र में 47 स्थानों पर वक्सीन की खुराक दी जा रही है।

जहाँ अस्पतालों ने कोविशील्ड और कोवैक्सीन बूस्टर की मांग में वृद्धि दर्ज की है, वहीं सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया प्राइवेट लिमिटेड (एसआईआई) और भारत बायोटेक ने अपना वैक्सीन उत्पादन बंद कर दिया है।

एसआईआई के सीईओ आदर पूनावाला ने कहा, ‘हमने एक साल पहले कोविशील्ड का उत्पादन बंद कर दिया था क्योंकि पर्याप्त स्टॉक था और केवल कुछ ही बूस्टर शॉट ले रहे थे’ उन्होंने यह भी कहा कि कोविशील्ड वैक्सीन उत्पादन को फिर से शुरू करने की अभी तक कोई संभावना नहीं है।

यूपी सरकार ने अंतरराष्ट्रीय यात्रियों के लिए कोविड परीक्षण किया अनिवार्य

उत्तर प्रदेश सरकार ने शनिवार को घोषणा की कि विदेश से भारत लौटने वाले हर व्यक्ति का (जो यूपी में उतरेगा) कोविड परीक्षण अनिवार्य हैं। यह निर्णय इसलिए लिया गया क्योंकि राज्य में कोविड के मामले लगातार बढ़ रहे हैं, इसके साथ कल लखनऊ में कोरोनावायरस से इस साल की पहली मौत हुई।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

पंजाब से किसानों का दिल्ली कूच पाकिस्तान में गठबंधन सरकार तय Paytm पर सरकार की बड़ी कार्रवाई, क्या अब UPI भी हो जाएगी बंद ? लालकृष्ण आडवाणी को मिलेगा भारत रत्न सम्मान राहुल गांधी की इस बात से नाराज थे नीतीश कुमार