अमेरिका : 129 साल पहले दुर्घटनाग्रस्त जहाज के मिले अवशेष

crashed-ship

मिशिगन, एपी: मिशिगन, साल 1894 में मिशिगन तट से कुछ दूर हादसे का शिकार हुए मालवाहक जहाज आयरनटन के अवशेषों को खोज लिया गया है। इस हादसे में चालक दल के सिर्फ दो सदस्य ही जीवित बचे थे। जिस जगह यह जहाज हादसे की शिकार हुआ था, लंबे समय से उसे ढूढ़ा जा रहा था, लेकिन सिर्फ निराशा ही हाथ लग रही थी ,लेकिन करीब 129 वर्षो के बाद जहाज के अवशेषों को ढूढ़ा लिया गया है।

अटकलों पर लगा विराम

आयरनटन जहाज के दुर्घटनाग्रस्त होने को लेकर कई तरह की अटकलें लगाई जा रहीं थीं, जिनपर अब विराम लग गया है। समाचार एजेंसी एपी द्वारा दी गई जानकारी के अनुसार इतिहासकारों और पुरातत्वविदों की एक टीम ने वर्ष 2019 में जहाज के मलबे का पता लगा लिया था। जिसके बाद मलवे को स्कैन करने और इसका रिकॉर्ड बनाने के लिए रिमोट कैमरों को इस्तेमाल में किया गया।

जहाज के मलवे का पता लगाने वाली संस्था आने वाले कुछ महीनों में दुर्घटना की जगह को लेकर आने वाले कुछ महीनों में खुलासा करने पर विचार किया जा रहा है। आधिकारिक तौर पर हादसे की जगह को गुप्त रखा गया था, ताकि इसे गोताखोरों की पहुंच से दूर रखा जा सके और इसका दस्तावेजीकरण ठीक तौर से किया जा सके। खोजकर्ताओं की ओर से जारी एक वीडियो में मालवाहक जहाज आयरनटन को झील की तलहटी में साफ तौर से देखा जा सकता है , लेकिन , जहाज में कोई भी मानव अवशेष नहीं देखा गया है।

कई संस्थाओं ने मिलकर खोजा

जहाज के मलवे को खोजने में कई संस्थाओं ने मिलकर काम किया है। इसमें ओशन एक्सप्लोरेशन ट्रस्ट भी शामिल है, जिसकी स्थापना रॉबर्ट बलार्ड ने की थी। इसी संस्था ने टाइटैनिक और जर्मन युद्धपोत बिस्मार्क के डूबे हुए मलबे का भी पता लगाया था। एक अनुमान के अनुसार सेंचुरी की सीमाओं में करीब 200 जहाज डूब चुके हैं। कहा जाता है कि १८ वी का दशक झील कारोबार के नजरिए से खासा व्यस्त हुआ करता था। इस दौरान शिकागो, डेट्रायट और क्लीवलैंड जैसे हलचल वाले बंदरगाह शहरों के बीच हजारों स्टीमर कार्गो और यात्रियों को इधर से उधर पहुँचाते थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

पंजाब से किसानों का दिल्ली कूच पाकिस्तान में गठबंधन सरकार तय Paytm पर सरकार की बड़ी कार्रवाई, क्या अब UPI भी हो जाएगी बंद ? लालकृष्ण आडवाणी को मिलेगा भारत रत्न सम्मान राहुल गांधी की इस बात से नाराज थे नीतीश कुमार