Agra IT Raid : आगरा में तेल कारोबारियों पर आयकर विभाग की छापेमारी

AGRA-NEWS (3)

आगरा, संवाददाता : सरसों के तेल की चार कंपनियों पर आयकर विभाग की टीम ने छापा मारा। कोलकाता और आगरा के 40 से ज्यादा घर, प्रतिष्ठानों और गोदामों पर कार्रवाई की गई। सुबह सात बजे एक साथ शुरू की गई इस कार्रवाई में 300 से ज्यादा आयकर अधिकारी उपस्थित रहे।

आगरा में दिवाली से ऐन पहले आयकर विभाग ने शहर की चार तेल कंपनियों पर छापे मारकर बड़ा धमाका कर दिया। शहर की पुरानी सरसों तेल कंपनियों में शुमार बीपी ऑयल मिल, शारदा ऑयल कंपनी, एसके इंडस्ट्रीज और हरिशंकर एंड कंपनी पर विभाग के 300 से ज्यादा अधिकारियों ने सुबह सात बजे एक साथ कार्रवाई शुरू की। आगरा में चार कंपनियों के 40 से ज्यादा ठिकानों के साथ कोलकाता में भी कंपनियों से जुड़े परिसरों पर कार्रवाई की। पश्चिम बंगाल, बिहार, असम आदि राज्यों में इन कंपनियों के तेल की खपत ज्यादा है।

सराफा कारोबारी अजय अवागढ़ के बाद शहर के चार तेल कारोबारियों पर मंगलवार की सुबह आयकर विभाग की इंवेस्टिगेशन विंग ने छापा मारा। आगरा के साथ कोलकाता में भी इन कंपनियों के गोदाम और ऑफिस पर आयकर विभाग की कार्रवाई एक साथ शुरू की गई। आगरा के साथ पड़ोसी जिलों के आयकर अधिकारी इस कार्रवाई में विशेष रूप से बुलाए गए हैं। चारों कंपनियों के संचालकों के घर और ऑफिस में आयकर अधिकारियों ने कागजात और कंप्यूटर लैपटॉप अपने कब्जे में लेकर जांच शुरू कर दी है। आयकर विभाग को इन कंपनियों द्वारा बोगस कंपनियों के जरिए व्यापार करने और स्टॉक रजिस्टर में गड़बड़ी की शिकायतें मिल रही थीं।

विजय नगर, नुनिहाई, माईथान में कार्रवाई

शारदा ऑयल कंपनी के तीनों संचालकों का निवास विजय नगर कालोनी में हैं। एसके इंडस्ट्रीज के नाम से संचालित कंपनी के सचिन गुप्ता, अजय गुप्ता और दीपक गुप्ता की तेल मिल नुनिहाई में हैं। सबसे पुरानी तेल मिलों में शुमार बीपी ऑयल मिल के माईथान और नुनिहाई स्थित प्रतिष्ठानों पर भी आयकर की टीम पहुंची। इनके ऑफिस में मौजूद कंप्यूटर, स्टॉक रजिस्टर, कच्चे बिलों,लैपटॉप के डेटा की जांच की जा रही है।

सलोनी ऑयल मिल छापे से जुड़े हैं तार
सरसों के तेल की चारों कंपनियों में टैक्स चोरी का वही ट्रेंड आयकर अधिकारियों को मिला है जो सलोनी ऑयल मिल पर चार वर्ष पहले की गई कार्रवाई में सामने आया था। आयकर अधिकारियों के मुताबिक चारों तेल कंपनियों ने बोगस खरीद और खर्चे दिखाए हैं। कई ऐसी कंपनियों के नाम दिखाए गए हैं, जिनके पते नहीं मिल रहे। कच्चे बिलों का रिकाॅर्ड से मिलान किया जा रहा है। संपत्तियों की खरीद के कागजात भी मिले हैं। जमीनों की खरीद फरोख्त के कई कागजात भी टीमों को मिल रहे हैं। सलोनी ऑयल मिल से इन कंपनियों का बड़ा लेनदेन हुआ है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

पंजाब से किसानों का दिल्ली कूच पाकिस्तान में गठबंधन सरकार तय Paytm पर सरकार की बड़ी कार्रवाई, क्या अब UPI भी हो जाएगी बंद ? लालकृष्ण आडवाणी को मिलेगा भारत रत्न सम्मान राहुल गांधी की इस बात से नाराज थे नीतीश कुमार