गुड्डू मुस्लिम को शरण देने पर आयशा के परिवार की बढ़ीं मुश्किलें

atiq-sister

बरेली,रिपब्लिक समाचार,संवाददाता : बरेली में अशरफ की बहन आयशा को बयानबाजी भारी पड़ रही है । इसके साथ ही शूटर गुड्डू मुस्लिम को शरण देना भी भारी पड़ गया। अब पुलिस आयशा और डॉ. अखलाक की सीडीआर निकलवा रही है। मेरठ में रहने वाली अतीक अहमद और अशरफ की बहन आयशा नूरी के परिवार पर एसटीएफ का शिकंजा कस गया है। तीन दिन पहले आयशा ने बरेली में अशरफ की जान को खतरा बताते हुए एक बयान दिया था। अतीक अहमद को साबरमती जेल से प्रयागराज लाया जा रहा था तो भी वह पुलिस के काफिले के पीछे चल रही थी।

डॉ. अखलाक को 120बी का अभियुक्त बनाने की तैयारी

इसके बाद मेरठ में उसके पति डॉ. अखलाक को गिरफ्तार कर लिया गया। आयशा के परिवार पर शूटर गुड्डू मुस्लिम को शरण देने का आरोप लगा है। आयशा ने प्रयागराज में प्रेस कांफ्रेंस के समय प्रदेश सरकार के एक काबीना मंत्री पर भी गंभीर आरोप लगाए थे। डॉ. अखलाक की कॉल डिटेल रिकॉर्ड (सीडीआर) निकलवा रही है। पुलिस को शक है कि उमेश पाल की हत्या में शामिल शूटरों के अतिरिक्त अतीक के बेटे ने भी फरारी के समय कुछ दिन मेरठ में अपनी बुआ के यहां शरण ली थी।

एसटीएफ को संदेह है कि अतीक अहमद और अशरफ जेल में रहकर अपनी बहन और बहनोई से फोन पर बात करते थे। सीडीआर मिलने पर आयशा नूरी पर भी शिकंजा कस सकता है। पहले भी अतीक के बेटे और गुर्गे मेरठ में शरण पाते रहे हैं। चार साथियों के साथ बरेली जेल के गेट पर पहले से मौजूद वकील विजय मिश्रा बोले कि सवा माह में पुलिस ने कार्यवाही क्यों नहीं की, अब आयशा के बयान के बाद ही अखलाक को गिरफ्तार कर लिया गया।

डॉक्टर अखलाक को उमेश पाल हत्याकांड में अब प्रयागराज पुलिस 120बी का अभियुक्त बनाने जा रही है। डॉ. अखलाक से पूछताछ में भी ज्ञात हुआ है कि करीब एक वर्ष पूर्व देवरिया जेल कांड में सीबीआई अतीक के बेटे उमर को तलाशने मेरठ में डॉ. अखलाक के घर परपुलिस गई थी,लेकिन उमर कुछ घंटो पहले ही वहां से निकल चुका था।

स्वास्थ्य विभाग से डॉ. अखलाक बर्खास्त करने की तैयारी

प्रयागराज में उमेश पाल हत्याकांड की साजिश में शामिल रहे डॉ. अखलाक को सरकारी स्वास्थ सेवा भी तरबिनेट करने की सुरवात कर दी गई है। डॉ. अखलाक की गिरफ्तारी के बाद सीएमओ डॉ. अखिलेश मोहन ने शासन को पूरे प्रकरण की रिपोर्ट भेज दी है। जबकि स्वास्थ्य विभाग से बर्खास्तगी को लेकर शासन की ओर से ही आदेश जारी किए जाएंगे।

दरअसल, स्वास्थ्य विभाग में डॉ. अखलाक की नियुक्ति जून 2000 में हुई थी। वर्ष 2013 से वह भावनपुर सीएचसी में तैनात था। अखलाक पर आरोप है कि वह हत्याकांड की साजिश में शामिल था। इसके अतिरिक्त हत्याकांड के बाद शूटर गुड्डू मुस्लिम को भी अपने घर में शरण दी थी और गुड्डू मुस्लिम खर्च के लिए पचास हज़ार रुपये भी दिए थे।

यह डॉ. अखलाक के भवानीनगर स्थित घर का बताया जा रहा है। वीडियो पांच मार्च तड़के 5:53 बजे का है। इसमें गुड्डू मुस्लिम एक बैग लेकर आता है और कुर्सी पर बैठ जाता है। इसके बाद अखलाक कमरे के अंदर से आता है और गुड्डू मुस्लिम शूटर को गले लगाता है। फिर सभी कमरे में चले जाते हैं। एसटीएफ के अधिकारियों के अनुसार हत्याकांड के बाद शूटर गुड्डू मुस्लिम मेरठ पहुंचा था।

शनिवार रात पुलिस ने डॉक्टर अखलाक को गिरफ्तार कर लिया था। उस समय डॉक्टर अखलाक मना करता रहा कि गुड्डू यहां नहीं आया, लेकिन जब उसके घर के सीसीटीवी कैमरे चेक किए तो डीवीआर गायब मिली। तलाशी के दौरान डीवीआर घर में खड़ी स्कूटी की डिग्गी से बरामद की गई थी। यह वीडियो उसी डीवीआर में थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

पंजाब से किसानों का दिल्ली कूच पाकिस्तान में गठबंधन सरकार तय Paytm पर सरकार की बड़ी कार्रवाई, क्या अब UPI भी हो जाएगी बंद ? लालकृष्ण आडवाणी को मिलेगा भारत रत्न सम्मान राहुल गांधी की इस बात से नाराज थे नीतीश कुमार