रूसी अधिकारी ने पुतिन से जुड़े कई राज से उठाया पर्दा

putin-detector

मास्को,एजेंसी : रूस और यूक्रेन के बीच 13 महीने से भी ज्यादा समय से युद्ध चल रहा है। दोनों देश एक-दूसरे के खिलाफ सैन्य बढ़त हासिल करने के उद्देश्य से अपनी-अपनी रणनीति के तहत कार्य कर रहे हैं। रूस के राष्ट्रपति को लेकर चौंका देने वाला एक खुलासा हुआ है।

पुतिन की सीक्रेट लाइफ स्टाइल, गुप्त ट्रेन नेटवर्क,

वरिष्ठ रूसी सुरक्षा अधिकारी काराकुलोव ने व्लादिमीर पुतिन की सीक्रेट लाइफ स्टाइल, गुप्त ट्रेन नेटवर्क, विभिन्न शहरों में एक जैसे ऑफिस के साथ सख्त व्यक्तिगत सुरक्षा प्रोटोकॉल के बारे में हैरान कर देने वाली जानकारी बताया है। जबकि ग्लेब काराकुलोव ने युद्ध के दौरान ही व्लादिमीर पुतिन का साथ छोड़ दिया था।

वरिष्ठ रूस के सुरक्षा अधिकारी ग्लेब काराकुलोव ने व्लादिमीर पुतिन की सीक्रेट लाइफ स्टाइल, गुप्त ट्रेन नेटवर्क, विभिन्न शहरों में एक जैसे ऑफिस के साथ सख्त व्यक्तिगत सुरक्षा प्रोटोकॉल के बारे में हैरान कर देने वाली जानकारी देते हुए कहा है। जबकि ग्लेब काराकुलोव ने युद्ध के दौरान ही व्लादिमीर पुतिन का साथ छोड़ दिया था।

ब्रिटिश दैनिक पेपर द गार्जियन की रिपोर्ट के अनुसार , ग्लेब काराकुलोव , जिन्होंने संघीय सुरक्षा सेवा (FSO) में कप्तान के रूप में कार्य किया था। रूस के टॉप अधिकारियों की सुरक्षा के लिए कार्य करने वाली संस्था ने कहा कि रूस के राष्ट्रपति को छुपाने के लिए डिजाइन किया गया था, जिसे उन्होंने अपने जीवन के लिए भयभीत बताया।

‘ट्रेन को नहीं किया जा सकता ट्रैक’

गुप्तचर अधिकारी ने कहा कि ट्रेन का इस्तेमाल किया गया था, क्योंकि इसे किसी भी इलक्ट्रोनिक संसाधन पर ट्रैक नहीं किया जा सकता है। यह गुप्त सूचना के लिए किया गया। रूस के खोजी आउटलेट प्रोएक्ट ने पहले ट्रेन के अस्तित्व और नोवो-ओगरियोवो में वल्दाई राष्ट्रीय उद्यान में पुतिन के आवासों के पास समानांतर लाइनों और स्टेशनों सहित गुप्त रेल नेटवर्क और सोची के काला सागर रिसॉर्ट में उनके बोचारोव रुचेई आवास के पास सूचना दी थी।

रुसी गुप्तचर राष्ट्रपति के संचार निदेशालय की टीम के सदस्य थे, जो शीर्ष रूसी अधिकारियों के संदेशों को एन्क्रिप्ट करता है और अनुमान लगाया है कि उन्होंने वरिष्ठ अधिकारियों के साथ 180 से अधिक यात्राये की थी। रिपोर्ट में कहा गया है कि यूक्रेन में रूस के युद्ध के प्रारम्भ के बाद से वह दल बदलने वाले सर्वोच्च रैंकिंग वाले खुफिया अधिकारी प्रतीत होते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

पंजाब से किसानों का दिल्ली कूच पाकिस्तान में गठबंधन सरकार तय Paytm पर सरकार की बड़ी कार्रवाई, क्या अब UPI भी हो जाएगी बंद ? लालकृष्ण आडवाणी को मिलेगा भारत रत्न सम्मान राहुल गांधी की इस बात से नाराज थे नीतीश कुमार