निकाय चुनाव 2023 : सपा युवा चेहरों पर लगाएगी दांव

nikay-chunav (2)

लखनऊ,रिपब्लिक समाचार,संवाददाता : समाजवादी पार्टी नगर निकाय चुनाव में युवा चेहरों को प्राथमिकता देगी। इसके अतिरिक्त जातीय समीकरण पर पूरा फोकस रहेगा। आपसी समन्वय बनाये रखने का निर्देश दिया गया है।
निकाय चुनाव की अधिसूचना जारी होते ही समाजवादी पार्टी उम्मीदवारो के चयन मे लग गई है। समाजवादी पार्टी जातीय समीकरण का पूरा ख्याल रखेगी, लेकिन युवाओं को ज्यादा से जयादा मौका देगी। महापौर, पालिका परिषद व नगर पंचायत अध्यक्ष पद के उम्मीदवारों की घोषणा प्रदेश कार्यालय से नाम घोषित होने के बाद होगी।

सियासी गणित का रखा जाएगा ख्याल

पार्षद एवं सभासदों के नाम स्थानीय स्तर पर तय किए जाएंगे। सभी प्रभारियों से उम्मीदवारों के नाम का पैनल मांगा गया है। प्रदेश मुख्यालय से यह भी निर्देश दिया गया है कि इस चुनाव में आपसी समन्वय बना कर रखा जाए। जहां किसी तरह गुटबाजी नजर आए तो पार्टी के पूर्व सांसद, विधायक व पूर्व विधायक सहित अन्य वरिष्ठ नेता हस्तक्षेप करते हुए आपसी सहमति बनाएं।

सपा ने नगर निगमों के लिए विधायकों को प्रभारी बनाया है। इसमें एक जिले के विधायक को दूसरे जिले के क्षेत्र की जिम्मेदारी दी गई है। आरक्षण सूची जारी होने के बाद सभी प्रभारी अपने- अपने इलाके का दौरा कर संभावित उम्मीदवारों का पैनल बना चुके हैं। इसी तरह नगर पालिका परिषद अध्यक्ष एवं नगर पंचायत अध्यक्ष के लिए जिले स्तर पर प्रभारी बनाए गए हैं।

प्रदेश अध्यक्ष नरेश उत्तम पटेल ने सभी प्रभारियों से आरक्षण के मुताबिक अध्यक्ष पद के नाम का पैनल तैयार कर प्रदेश मुख्यालय भेजने का निर्देश दिया है। पार्टी की रणनीति है कि अध्यक्ष ही नहीं बल्कि पार्षद एवं सभासद की हर सीट पर पूरा जोर लगाया जाएगा। इसके लिए उम्मीदवार चयन करते वक्त संबंधित क्षेत्र की सियासी गणित का विशेष ख्याल रखा जाएगा।

आरक्षित सीट पर उन महिलाओं को तवज्जो

संबंधित इलाके में पार्टी के समर्थकों की संख्या कितनी है, इसका आंकलन किया जाएगा। जातीय समीकरण के साथ यह भी ध्यान रखा जाएगा कि युवा चेहरे ज्यादा से ज्यादा उतारे जाएं। महिलाओं के लिए आरक्षित सीट पर उन महिलाओं को तवज्जो दी जाएगी, जो राजनीत में सक्रिय हैं। सियासी परिवार से उम्मीदवार उतारते समय भी इस बात का ख्याल रखा जाएगा कि अन्य उम्मीदवारों की अपेक्षा पार्टी की ओर से तय किए जा रहे उम्मीदवार की लोगों में पकड़ कितनी है।

प्रदेश में करीब 35 जिलों में अभी तक जिलाध्यक्ष एवं महानगर अध्यक्षो की घोषणा नहीं हुई है। अधिसूचना जारी होने के बाद अब उम्मीद है कि इसी सप्ताह सभी महानगर और जिलाध्यक्षो की घोषणा हो जाएगी। जबकि इससे पहले निवर्तमान जिलाध्यक्षों एवं निवर्तमान महानगर अध्यक्षों को निर्देश दिया गया था कि वे पहले से चल रही बूथ कमेटियों को सक्रिय कर दें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

पंजाब से किसानों का दिल्ली कूच पाकिस्तान में गठबंधन सरकार तय Paytm पर सरकार की बड़ी कार्रवाई, क्या अब UPI भी हो जाएगी बंद ? लालकृष्ण आडवाणी को मिलेगा भारत रत्न सम्मान राहुल गांधी की इस बात से नाराज थे नीतीश कुमार