अफगान महिलाओं ने उठाया मानवाधिकारों के हनन का मुद्दा

afghan-women

काबुल, एनएआई : अफगानिस्तान की महिलाओं के एक ग्रुप ने देश में मौलिक महिला अधिकारों के लिए राजधानी काबुल में अफगानिस्तान की महिलाओ के लिए क्रांति की सुरवात की घोषणा की हैं। आयोजकों में से एक, दोन्या सफी के मुताबिक ,आंदोलन का उद्देश्य “नागरिकों, विशेष रूप से महिलाओं के मूल अधिकारों की रक्षा करना , क्योंकि मूल अधिकारों तक पहुंच नागरिकों के लिए एक महत्वपूर्ण आवश्यकता है।”

तालिबानी सरकार में महिलाओं की भागेदारी नहीं

खामा प्रेस के मुताबिक, अमू टीवी ने कहा की , हमने महिलाओं के खिलाफ अन्याय और असमानता से लड़ने के लिए यह अभियान शुरू किया। सफी ने कहा कि आंदोलन के समर्थन में छात्र, शिक्षक और महिला अधिकारों के लिए लड़ने वाले कई पूर्व सरकारी कर्मचारी भी शामिल हैं।

सफी के अनुसार महिलाओं के योगदान से ही समाज आगे बढ़ सकता है , लेकिन , अगर महिलाओ का समाज में योगदान न ही होगा, वह समाज पिछड़ जाता है , वह समाज प्रगति नहीं करेगा। अफगान देश की प्रगति में महिलाओं की आवश्यक भूमिका होने के बाद नहीं , वर्तमान तालिबान सरकार में महिलाओं की हिस्सेदारी की अनुमति नहीं है।

महिलाओं को सरकारी / गैर-सरकारी संगठनों में कार्य पर रोक

संयुक्त राष्ट्र ने एक बयान में कहा कि गुतारेस ने अफगानिस्तान में महिलाओं और लड़कियों के अधिकारों को लेकर अपनी चिंता व्यक्त की है । इस्लामिक अमीरात के प्रवक्ता, जबीउल्लाह मुजाहिद ने , दावों का खंडन किया और कहा कि अफगानिस्तान में महिलाओं और लड़कियों के अधिकारों को बरकरार रखा गया है और अंतर्राष्ट्रीय समुदाय को महिलाओं के विषय का उपयोग करके वर्तमान तालिबानी सरकार पर दबाव बनाने से बचना चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

खत्म हुआ हार्दिक पांड्या और नताशा स्टेनकोविच का रिश्ता? करोड़ों की मालकिन हैं कंगना रनौत बिना किस-इंटिमेट सीन 35 फिल्में कर चुकी हूं इंग्लिश तेज गेंदबाज जेम्स एंडरसन ने रिटायरमेंट का किया ऐलान ‘विराट के खिलाफ रणनीति बनाएंगे… : बाबर आज़म