अमेरिका को तीन साल के बाद कोरोना के प्रतिबंधों से मिली राहत

jo-biden

वाशिंगटन,एनएआई : अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडन ने सोमवार को आधिकारिक रूप से देश में कोविड-19 नेशनल हेल्थ इमरजेंसी को आधिकारिक तौर से समाप्त कर दिया गया है। अमेरिका में कोविड-19 के कारण पिछले तीन वर्षो के दौरान करीब दस लाख से अधिक लोगो की इस बीमारी से मृत्यु हो गई थी।

कोविड-19 महामारी से संबंधित राष्ट्रीय आपातकाल को समाप्त करने की घोषणा

व्हाइट हाउस के प्रवक्ता ने कहा राष्ट्रपति जो बाइडन ने कांग्रेस द्वारा पारित एक कानून पर हस्ताक्षर कर दिए है, जो कोविड-19 महामारी से संबंधित राष्ट्रीय आपातकाल को समाप्त करने की घोषणा करता है। यह दुनिया की सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था को वैश्विक महामारी से बचाने की कोशिश करने के लिए जनवरी 2020 में शुरू किए गए कोविड परीक्षणों, मुफ्त टीकों और अन्य आपातकालीन उपायों के लिए बड़ी मात्रा में धन को बंद कर देता है।

इससे यह स्पष्ट है कि आपातकाल की समाप्ति का मेक्सिको के साथ पहले से ही तनावपूर्ण दक्षिणी सीमा पर प्रभाव पड़ने वाला है । अमेरिकी अधिकारियों ने लंबे समय से अज्ञात प्रवासियों और बड़ी संख्या में शरण चाहने वालों के प्रवाह का प्रबंधन करने के लिए बहुत ही संघर्ष किया है।

व्हाइट हाउस के एक वरिष्ठ प्रवक्ता ने समाचार एजेंसी एनएआई को बताया कि रूल-42 के 11 मई को समाप्त होने की उम्मीद की जा रही है। व्हाइट हाउस के प्रवक्ता ने कहा कि अमेरिका अब अनौपचारिक रूप से विश्व भर में कहर मचाने वाले कोविड-19 1 से उबर चुका है, लेकिन जो बाइडन प्रशासन पहले से ही वायरस के किसी भी भविष्य में कोरोना से निपटने के लिए अगली पीढ़ी के टीके और अन्य उपायों पर काम कर रहा है।

वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारी ने एएफपी को कहा कि परियोजना नेक्स्टजेन सार्वजनिक-निजी सहयोग के द्वारा से टीकों और उपचार की अगली पीढ़ी को कोविड-19 से लड़ने में सहायता मिलेगी । साइंटिस्ट प्रगति को उत्प्रेरित करने और कोविड-19 का वाइरस बनने वाले तेजी से विकसित हो रहे वायरस से लड़ने के लिए कम से कम 5 अरब डॉलर की धनराशि उपलब्ध की गई है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

पंजाब से किसानों का दिल्ली कूच पाकिस्तान में गठबंधन सरकार तय Paytm पर सरकार की बड़ी कार्रवाई, क्या अब UPI भी हो जाएगी बंद ? लालकृष्ण आडवाणी को मिलेगा भारत रत्न सम्मान राहुल गांधी की इस बात से नाराज थे नीतीश कुमार