तालिबान ने महिलाओं के प्रति अपनाई भेदभावपूर्ण रणनीति : एमनेस्टी इंटरनेशनल

afghan-women (3)

काबुल,एनएआई : तालिबान के कट्टर प्रशासन द्वारा अफगानिस्तान में अपने शासन के तहत लगातार महिलाओं के अधिकारों का उल्लंघन किया जा रहा है। इसको लेकर कई अंतरराष्ट्रीय संगठनों और मानवाधिकार संघटनो ने देश की लिंग आधारित नीतियों के बारे में रोष व्यक्त किया है।

जो लिंग आधारित और भेदभावपूर्ण

एमनेस्टी इंटरनेशनल ने अफगानिस्तान में तालिबान नियंत्रण के तहत कई घटनाओं का उल्लेख किया है, जो लिंग आधारित और भेदभावपूर्ण रणनीति को प्रदर्शित करती हैं। यह सभी तालिबान प्रशाशन द्वारा लड़कियो और महिलाओं पर किए गए अत्याचारों की रिपोर्ट दर्ज़ किया है।

महिलाओं और लड़कियो पर लगा है प्रतिबंध
एमनेस्टी का हवाला देते हुए, एनएआई ने कहा कि अफगान महिलाओं को चुप करा दिया जाता है और वे जल्द ही गायब हो सकती हैं। तालिबान की हरकतें समूह के भेदभावपूर्ण उद्देश्यों को प्रदर्शित करती हैं, जैसे कि महिलाओं और लड़कियों को सभी क्षेत्रों में काम करने से रोक दिया गया है।

तालिबानी अंतरराष्ट्रीय संधियों का उल्लंघन कर रहे है
एमनेस्टी इंटरनेशनल के रिपोर्ट से यह भी ज्ञात हुआ है कि महिलाओं और लड़कियों पर तालिबान के सख्त प्रतिबंध कई अंतरराष्ट्रीय संधियों का उल्लंघन कर रहे हैं, जिनमें नागरिक और राजनीतिक उनके अधिकारों पर अंतर्राष्ट्रीय अनुबंध, आर्थिक, सामाजिक और सांस्कृतिक अधिकारों पर अंतर्राष्ट्रीय अनुबंध और द चाइल्ड अधिकारों पर सम्मेलन शामिल हैं।

महिलाओं को घर में रहने को किया मजबूर
अफगानिस्तान में महिलाओं को लंबे समय से गैर-सरकारी संगठनों में काम करने से रोक दिया गया है। कई महिलाओं और लड़कियों ने बार-बार अधिकारियों को उनके घरों के बाहर काम उपलब्ध कराने के लिए कहा है,जबकि तालिबान ने अफगानिस्तान में महिलाओं पर अपने प्रतिबंधों को अब भी जारी रखा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

खत्म हुआ हार्दिक पांड्या और नताशा स्टेनकोविच का रिश्ता? करोड़ों की मालकिन हैं कंगना रनौत बिना किस-इंटिमेट सीन 35 फिल्में कर चुकी हूं इंग्लिश तेज गेंदबाज जेम्स एंडरसन ने रिटायरमेंट का किया ऐलान ‘विराट के खिलाफ रणनीति बनाएंगे… : बाबर आज़म