सूडान में गृह युद्ध जैसे हालात

सूडान sudan civil war kills 100

Republic Samachar- Samarth Singh II सूडान जो अफ्रीका का तीसरा सबसे बड़ा देश है, अत्यधिक हिंसा और अशांति के प्रकोप का सामना कर रहा है। सत्ता को हासिल करने की लालसा के कारण सूडान की सेना और अर्धसैनिक बल (पैरामिलिटरी फोर्स) के बीच भीषण जंग छिड़ गई है, इस जंग में 100 से अधिक लोगों ने अपनी जान गंवाई है।

क्यों हुए सूडान में ऐसे हालात

चल रहे संघर्ष की जड़ें अप्रैल 2019 तक जाती हैं, जब सूडान के लंबे समय तक सत्तावादी राष्ट्रपति उमर अल – बशीर को सैन्य जनरलों द्वारा उखाड़ फेंका गया था। तख्तापलट के बाद एक गठबंधन सरकार सत्ता में आई लेकिन इसकी कमजोर ताकत के कारण वर्ष 2021 में एक बार फिर से सैन्य तख्तापलट हुआ।

तख्तापलट करने वाली सेना में सूडान की राष्ट्रीय सेना शामिल थी जिसका नेतृत्व जनरल अब्देल फतह बुरहान ने किया था और अर्धसैनिक बल जिसका नेतृत्व जनरल मोहम्मद हमदान डगालो ने किया था।

इसके बाद फतह बुरहन ने सूडान की सत्ता संभाली, लेकिन अर्धसैनिक बल के प्रमुख डगालो ने फतह बुरहन का विरोध किया और खुद सत्ता हासिल करनी चाही, इसके बाद से ही दोनों सेना गुटों में संघर्ष होता रहा और इस वर्ष यह संघर्ष अपने चरम पर पहुँच गया।

संयुक्त राष्ट्र ने जताई चिंता

सूडान में एक डॉक्टर समूह ने सोमवार को बताया कि सूडान की सेना और अर्धसैनिक बल के बीच लड़ाई में फंसे नागरिकों की मौत की संख्या बढ़कर कम से कम 100 हो गई है, जिसमें 365 घायल हुए हैं। अन्य रिपोर्टों में कहा गया है कि 600 लोग घायल हुए हैं। संयुक्त राष्ट्र ने आशंका जताई है की इस जंग में 1000 से अधिक लोग घायल हो सकते हैं। अशांति का संज्ञान में लेते हुए संयुक्त राष्ट्र ने दोनों सैन्य गुटों से शांति कायम करने को कहा है।

संयुक्त राष्ट्र ने दोनों समूहों के बीच रविवार दोपहर – घंटे के संघर्ष विराम की घोषणा की थी, फिर भी निवासियों ने मीडिया को बताया कि भारी विस्फोट और निरंतर गोलीबारी, साथ ही आरएसएफ लक्ष्यों को ध्वस्त करने वाले हवाई हमलों की आवाज देर रात तक सुनी जा सकती थी। संयुक्त राष्ट्र महासचिव जनरल एंटोनियो गुटेरेस ने सूडान की लड़ाई की निंदा की, जिसमें संयुक्त राष्ट्र के तीन कार्यकर्ता मारे गए हैं।

संघर्ष में एक भारतीय की गई जान

सूडान में जारी हिंसक संघर्ष के बीच खार्तूम में शनिवार को केरल के एक पूर्व सैनिक की गोली लगने से मौत हो गई। पीड़ित की पहचान कन्नूर जिले के नेल्लीप्पारा गांव के रहने वाले अल्बर्ट ऑगस्टीन (48) के रूप में हुई है। वह सूडान में एक फर्म के साथ सुरक्षा प्रबंधक के रूप में काम कर रहा था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

पंजाब से किसानों का दिल्ली कूच पाकिस्तान में गठबंधन सरकार तय Paytm पर सरकार की बड़ी कार्रवाई, क्या अब UPI भी हो जाएगी बंद ? लालकृष्ण आडवाणी को मिलेगा भारत रत्न सम्मान राहुल गांधी की इस बात से नाराज थे नीतीश कुमार